lovebet देशी th.apk

lovebet देशी th.apk

time:2021-10-25 21:59:06 नेशनल रिटेल पॉलिसी से 4 साल में पैदा होंगी 30 लाख नौकरियां : सीआईआई Views:4591

लॉटरी इतिहास ड्रा lovebet देशी th.apk 10cric न्यूनतम जमा राशि,casumo दशमलव ऑड्स,लियोवेगास पेपैल निकासी समय,lovebet बोनस कोड,मेरे पास lovebet,lovebet वार्षिक राजस्व,ऐ बैकारेट 2021,बैकारेट ने समझाया,बैकरेट ट्रेडिंग सिस्टम,बेटिंग आईडी हैकिंग सॉफ्टवेयर,कैसीनो एक पेरिस,कैसीनो ट्रेलर,क्लासिक रम्मी मालिक,क्रिकेट जैकपॉट टिप्स,ई क्रिकेट संगरोध कप,यूरोपीय फ़ुटबॉल ऑड्स,फुटबॉल संशोधन प्रणाली,उत्पत्ति कैसीनो मलेशिया,फुटबॉल बाधा को कैसे देखता है,आईपीएल जानकारी,जैकपॉट सॉफ्टवेयर गेम्स,लाइव लाठी ऑनलाइन ब्रिटेन,लाइव वीडियो बैकारेट क्रैकिंग,लॉटरी x,नायब क्रिकेट किट,ऑनलाइन कैसीनो शीर्ष,ऑनलाइन पोकर कैसे खेलें,पैरिमैच यूरोविज़न,पोकर खेल सूची,आर/क्रिकेट पोस्ट,नियम इसलिए,रम्मी अल्टीमेट,स्लॉट मशीन हैक ऐप डाउनलोड,स्पोर्ट्स 2021 आईपीएल,स्पोर्ट्सबुक ग्रीकटाउन कैसीनो,टेक्सास होल्डम जेक ग्रैसी,शीर्ष १० गेमिंग कंपनी रेटिंग,सबसे अच्छी शतरंज और कार्ड प्रतिष्ठा क्या है,एक्स स्पोर्ट्स फिटनेस,इलेक्ट्रॉनिक खेल xm,कोरोना वायरस के लक्षण,गोवा और ड्रग्स,ट्रिपल बंदर,फुटबॉल लॉटरी qa,बेटा मां समझावे रे,लॉटरी जीतने का उपाय,स्पोर्ट्स स्टार क्रिकेट .नेशनल रिटेल पॉलिसी से 4 साल में पैदा होंगी 30 लाख नौकरियां : सीआईआई

देश के संगठित रिटेल सेक्‍टर में पांच करोड़ लोगों को रोजगार मिला हुआ है.
नई दिल्ली : एक मजबूत नेशनल रिटेल पॉलिसी सेक्‍टर में जान फूंक सकती है. इससे देश में 2024 तक 30 लाख अतिरिक्त रोजगार के अवसर पैदा होंगे. उद्योग संगठन सीआईआई की रिटेल पर नेशनल कमेटी के चेयरमैन शाश्‍वत गोयनका ने यह बात कही.

सीआईआई इंडिया रिटेल समिट-2020 को संबोधित करते हुए गोयनका ने कहा कि नेशनल रिटेल पॉलिसी से यह क्षेत्र उबर सकेगा. आने वाले वर्षों में जोरदार ग्रोथ दर्ज कर पाएगा. गोयनका आरपी-संजीव गोयनका समूह के प्रमुख (रिटेल एंड एफएमसीजी) भी हैं. उद्योग के अनुमान के अनुसार, देश के संगठित रिटेल सेक्‍टर में पांच करोड़ लोगों को रोजगार मिला हुआ है.

इसे भी पढ़ें : दिवाली से पहले बैंक कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, 15% बढ़ेगा वेतन

शाश्‍वत बोले, ''आगे चलकर जब उद्योग अपने निचले स्तर से उबरेगा. ऐसे समय में सुधार की प्रक्रिया को तेज करने के लिए नए और उभरते मॉडल पर चर्चा करने की जरूरत होगी. उद्योग अब भी मांग में कमी की वजह से हुए नुकसान से उबर नहीं पाया है. ऐसे में उपभोक्ताओं का भरोसा कायम करने के लिए सक्रिय कदमों की जरूरत होगी.''

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.

इसे भी पढ़ें : अगले साल 87% कंपनियां बढ़ाएंगी वेतन : सर्वे

गोयनका बोले, ''आज पहले की तुलना में कहीं अधिक नेशनल रिटेल पॉलिसी के साथ अनुकूल वातावरण पैदा करने की जरूरत है. सरकार मजबूत रिटेल पॉलिसी लाकर सेक्‍टर की ग्रोथ बढ़ा सकती है. इससे 2024 तक 30 लाख अतिरिक्त रोजगार के अवसर पैदा हो सकते हैं. इसके अलावा इससे जुड़े क्षेत्रों में रोजगार के अप्रत्यक्ष अवसर भी पैदा किए जा सकते हैं.''

उन्होंने बताया कि शोध से पता चलता है कि रिटेल से जुड़े बुनियादी इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर जैसे वेयरहाउस और कोल्‍ड स्‍टोरेज इत्‍याद‍ि में सिर्फ 6,500 करोड़ रुपये के निवेश से दो से तीन लाख अतिरिक्त रोजगार पैदा किए जा सकते हैं. इसी कार्यक्रम में उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के संयुक्त सचिव अनिल अग्रवाल ने बताया कि सरकार रिटेल पॉलिसी पर काम कर रही है.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

नेशनल र‍िटेल पॉलिसीशाश्‍वत गोयनका30 लाख नौकरीरोजगार के अवसरसीआईआई

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival
Recent hit

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival

11 mins read
Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past
Investing

Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past

14 mins read

मारुति सुजुकी इंडिया, फोर्ड इंडिया और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी वाहन कंपनियां भी जनवरी से अपने वाहनों के दाम में बढ़ोतरी की घोषणा कर चुकी हैं.युवा खासतौर से डायमंड ज्‍वेलरी खरीदने में दिलचस्‍पी लेते हैं. 10,000-20,000 रुपये की रेंज में लो प्राइस डायमंड ज्‍वेलरी के खासतौर से अच्‍छा करने की उम्‍मीद है.आईटी और रिटेल सेक्‍टर में मार्च में हुईंं ज्‍यादा भर्तियां : रिपोर्ट

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी ने कहा कि वह व्हॉट्सएप पर एक नया शॉपिंग बटन पेश कर रही है जिससे लोगों को बिजनेस कैटलॉग खोजने में आसानी होगी.धनतेरस-दिवाली में किस्‍तों में डायमंड खरीद सकते हैं आप, ज्‍वेलर्स ने शुरू की ईएमआई स्‍कीम

इसके पहले मारुति सुजुकी, फोर्ड, महिंद्रा एंड महिंद्रा, रेनॉ और होंंडा अपनी कारों के दाम बढ़ाने का एलान कर चुकी हैं.दिग्गज आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान ग्रोथ देने के चलते साल 2021-22 के लिए कर्मचारियों की सैरली बढ़ाई है.दिवाली से पहले धनतेरस में सिक्कों और हल्के आभूषणों की बिक्री बढ़ी

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
एम.लवबेट ऐप

दिग्गज आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान ग्रोथ देने के चलते साल 2021-22 के लिए कर्मचारियों की सैरली बढ़ाई है.

टेक्सास होल्डम पोकर कैसे खेलें

बुधवार को देश की सबसे बड़ी कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने भी अपनी कारों के दाम बढ़ाने का एलान किया था. कीमतों में यह बढ़ोतरी जनवरी से लागू होगी.

विवो लाइव यूरोपीय रूले

युवा खासतौर से डायमंड ज्‍वेलरी खरीदने में दिलचस्‍पी लेते हैं. 10,000-20,000 रुपये की रेंज में लो प्राइस डायमंड ज्‍वेलरी के खासतौर से अच्‍छा करने की उम्‍मीद है.

रूले गुजराती में मतलब

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.

lovebet साइन अप बोनस

कीमतों में यह बढ़ोतरी विभिन्‍न मॉडलों में अलग-अलग होगी. यह वास्‍तव में कितनी होगी, इस बारे में जल्‍द ही डीलरों को बताया जाएगा.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी