क्या कैसीनो बीसी . में खुले हैं?

क्या कैसीनो बीसी . में खुले हैं?

time:2021-10-25 21:21:47 इंटरनेशनल फंड के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब Views:4591

lovebet 20 मुफ्त क्या कैसीनो बीसी . में खुले हैं? 188bet सीएसगो,casumo कार्यालय माल्टा,lovebet - पी क्यू महत्व,एंड्रॉइड के लिए lovebet डाउनलोड करें,lovebet o'zbekistonda qonuniymi,lovebet.r,एयू स्लॉट कैसीनो मोबाइल,बैकरेट सोने का सिक्का खेल,बैकारेट एक्स क्रोम हार्ट्स,बेटिंग रैंकिंग,कैसीनो दिन एपीके डाउनलोड,कैसीनो युकोन,com.rummy.best रम्मी.गेम ऑनलाइन,क्रिकेट एकदिवसीय रैंकिंग,एस्पोर्ट्स चाइना,बारिश में खुश किसान,फुटबॉल शूटिंग कौशल,जीएच लॉटरी शॉर्ट कोड,बैकरेट नीति को कैसे क्रैक करें,आईपीएल आज,जेएच स्पोर्ट्स,लाइव कैसीनो डेमो,लॉटरी 8 बजे का खेल,लूडो कैश गेम,नवीनतम सट्टेबाज,ऑनलाइन फुटबॉल लाइव,ऑनलाइन पोकर रियल मनी यूएसए,पारिमैच आधिकारिक ऐप,पोकर लोट्टो,बेटिंग नेटवर्क में रजिस्टर करें,नियम वर्तमान पूर्ण काल,रम्मीसर्कल (1).apk,स्लॉट मशीन प्रश्नोत्तरी,स्पोर्ट्स बेटिंग 365,स्पोर्ट्सबुक reddit,टेक्सास होल्डम वही हाथ जो जीतता है,इलेक्ट्रॉनिक गेम ऑनलाइन आज़माएं,फ़ुटबॉल हैंडीकैप सट्टेबाजी की मात्रा को कहाँ देखें,यूवेगर स्पोर्ट्सबुक,ऑनलाइन जुआ baccarat,क्रिकेट nibandh,गोवा थ्री,तीन पत्ती कॅश गेम ऑनलाइन,बकरा झील,बेताब सनी देओल,विश्व कप मकाऊ ऑड्स, .इंटरनेशनल फंड के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

टैक्स के लिहाज से इंटरनेशनल फंड को वही दर्जा हासिल है, जो डेट म्यूचुअल फंड का है. इस फंड में तीन साल से कम समय तक निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इसके मुनाफे पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस टैक्स देना पड़ता है.
पिछले कुछ समय से इंटरनेशनल फंड की बहुत चर्चा हो रही है. इसकी वजह इन फंडों में निवेशकों की बढ़ती दिलचस्पी है. हालांकि, अब भी निवेशकों को ऐसे फंड़ों के बारे में बहुत ज्यादा जानकारी नहीं है. इंटरनेशनल फंड का मतलब क्या है? क्या इन फंडों में निवेश का क्या फायदा है? क्या आपको इस फंड में निवेश करना चाहिए? आइए इन सवालों का जवाब जानने की कोशिश करते हैं.

इंटरनेशनल फंड में आपको क्यों निवेश करना चाहिए?
जोखिम घटाने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंडों के पोर्टोफोलियो का डायवर्सिफिकेशन जरूरी है. डायवर्सिफिकेशन का मतलब अलग-अलग तरह के फंडों में निवेश है. कई बार भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहता है, जबकि विदेशी बाजार का प्रदर्शन अच्छा होता है. दुनिया के कई बाजारों का भारत से ज्यादा संबंध नहीं है. ऐसे में इंटरनेशनल फंड में निवेश से डायवर्सिफिकेशन में मदद मिलती है. इससे आपका जोखिम घट जाता है.

निवेशकों के लिए इंटरनेशनल फंड में निवेश के लिए कौन-कौन से विकल्प हैं?
आज भारतीय निवेशकों के लिए इंटरनेशनल फंड के कई विकल्प हैं. ये देश, क्षेत्र, थीम और टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं. कोई भारतीय निवेशक रुपये में इन इंटरनेशनल फंडों में निवेश कर सकता है. आप सामान्य म्यूचुअल फंड की तरह इंटरनेशनल फंड का चुनाव कर उसमें ऑनलाइन या ऑफलाइन निवेश कर सकते हैं.

इंटरनेशनल फंड किस तरह विदेशी शेयरों में निवेश करते हैं?
भारतीय बाजार में मौजूद इंटरनेशनल फंड सीधे विदेशी कंपनियों के शेयरों में या विदेश के दूसरे फंडों में निवेश करते हैं. दूसरे फंडों में निवेश को फीडर रूट कहा जाता है. यह एक तरह से फंड ऑफ फंड की तरह है.

यह भी पढ़ें : एनपीएस में निवेश की उम्र सीमा बढ़कर हो सकती है 70 साल!

इंटरनेशनल फंडों के रिटर्न पर किस तरह टैक्स लगता है?
टैक्स के लिहाज से इंटरनेशनल फंड को वही दर्जा हासिल है, जो डेट म्यूचुअल फंड का है. इस फंड में तीन साल से कम समय तक निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इसके मुनाफे पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस टैक्स देना पड़ता है. टैक्स की दर निवेशक के टैक्स स्लैब के अनुसार होती है. तीन साल से ज्यादा वक्त तक फंड में निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इंडेक्सेशन का फायदा मिलता है. इसकी वजह यह है कि इसे लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस माना जाता है. इंडेक्सेशन के बाद टैक्स की दर 20 फीसदी होती है.

क्या इंटरनेशनल फंड में निवेश करने में बहुत जोखिम है?
शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा ऐसे फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है. भारत में निवेशक रुपये में निवेश करता है. लेकिन, म्यूचुअल फंड कंपनी को उस देश की मुद्रा में इंटरनेशनल फंड में निवेश करना पड़ता है, जहां का वह फंड होता है. इसलिए इंटरनेशनल फंड में निवेश करने से पहले आपको करेंसी में होने वाले उतार-चढ़ाव के जोखिम के लिए तैयार रहना होगा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

इंटरनेशनल फंडडेट फंडइक्विटी म्यूचुअल फंडम्यूचुअल फंडफंड ऑफ फंड

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game
Artificial intelligence

Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game

15 mins read

अगर आप बड़ी तस्वीर के हिसाब से देखें तो पिछले साल की गई छंटनी के हिसाब से इस साल जॉब के मौके में 50 फ़ीसदी तक की वृद्धि दर्ज की गई है।हम सीनियर सिटीजन के लिए निवेश के पांच ऐसे विकल्प बता रहे हैं जिससे उनकी मेहनत की कमाई पर अच्छी नियमित आय आती रहे.सिप टॉप-अप फैसिलिटी के बारे में यहां जानिए अपने हर सवाल का जवाब

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.भारत फोर्ज ने पुणे संयंत्र के कर्मचारियों के लिए वीआरएस की पेशकश की

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) मजबूत हाजिर मांग के बीच सटोरियों ने ताजा सौदों की लिवाली की जिससे स्थानीय वायदा बाजार में सोमवार को सोने का भाव 228 रुपये बढ़कर 48,025 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में दिसंबर महीने की डिलिवरी के लिये सोने की कीमत 228 रुपये यानी 0.48 प्रतिशत बढ़कर 48,025 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। इसमें 11,327 लॉट के लिये कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करने से सोना वायदा कीमतों में तेजी आई। वैश्विक स्तर पर न्यूयार्क में सोने की कीमत 0.28 प्रतिशत की तेजीफ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.सिप टॉप-अप फैसिलिटी के बारे में यहां जानिए अपने हर सवाल का जवाब

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
फुटबॉल असाधारण कार्रवाई

कोलकाता, 25 अक्टूबर (भाषा) इंजीनियरिंग वस्तुओं का निर्यात सितंबर, 2021 में नौ अरब डॉलर को पार कर गया जबकि चीन, ब्रिटेन और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) जैसे शीर्ष 25 निर्यात गंतव्यों में से 22 में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की गयी।सितंबर महीने में कुल वस्तुओं के निर्यात में इंजीनियरिंग सामान की हिस्सेदारी 26.65 प्रतिशत रही। इंजीनियरिंग निर्यात संवर्धन परिषद (ईईपीसी) के चेयरमैन महेश देसाई ने कहा कि देश का इंजीनियरिंग निर्यात संचयी रूप से अप्रैल-सितंबर, 2021 में बढ़कर 52.3 अरब डॉलर हो गया जो पिछले साल इसी अवधि में 32.4 अरब डॉलर था। देसाई ने कहा, ‘‘सालाना आधार पर इसके 2021-22

फुटबॉल सिंगल गेम स्कोर गेम

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) मजबूत हाजिर मांग के बीच सटोरियों ने ताजा सौदों की लिवाली की जिससे स्थानीय वायदा बाजार में सोमवार को सोने का भाव 228 रुपये बढ़कर 48,025 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में दिसंबर महीने की डिलिवरी के लिये सोने की कीमत 228 रुपये यानी 0.48 प्रतिशत बढ़कर 48,025 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। इसमें 11,327 लॉट के लिये कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करने से सोना वायदा कीमतों में तेजी आई। वैश्विक स्तर पर न्यूयार्क में सोने की कीमत 0.28 प्रतिशत की तेजी

रैट रेड पैकेट

अगर आप युवा (20 के पड़ाव में) हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत शुरू करना चाहते हैं तो आपका निवेश इक्विटी म्‍यूचुअल फंड में ज्‍यादा होना चाहिए.

असली पैसे का खेल whatsapp

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) हीरो इलेक्ट्रिक ने चालू वित्त वर्ष 2021-22 के अंत तक अपने बिक्री नेटवर्क का विस्तार करने की घोषणा की है। इसके तहत कंपनी वित्त वर्ष के अंत तक देश में इलेक्ट्रिक वाहनों की बढ़ती मांग के बीच अपने ‘टचपॉइंट’ की संख्या 1,000 करेगी। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में देश के 500 से अधिक शहरों में कंपनी के बिक्री केंद्रों का आंकड़ा 700 को पार कर गया है। कंपनी ने कहा है कि वह देशभर में 300 नए बिक्री केन्द्र खोलेगी।

एस्पोर्ट्स बेटिंग

निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी
सबसे अच्छी शतरंज और कार्ड प्रतिष्ठा क्या है

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) जेएसडब्ल्यू समूह ने सोमवार को कहा कि वह जम्मू-कश्मीर में 1.2 लाख टन क्षमता वाले इस्पात संयंत्र की स्थापना के लिए 150 करोड़ रुपये का निवेश करेगा। जेएसडब्ल्यू समूह ने एक बयान में कहा कि संयंत्र की स्थापना समूह की कंपनी जेएसडब्ल्यू स्टील करेगी। बयान के मुताबिक, ‘‘जेएसडब्ल्यू ने प्रतिवर्ष 1.20 लाख टन क्षमता के अत्याधुनिक कलर कोटेड इस्पात विनिर्माण संयंत्र की स्थापना के लिए प्रतिबद्धता जताई है।’’ बयान में आगे कहा गया है कि संयंत्र में जम्मू-कश्मीर के स्थानीय बाजार के लिए स्टील सैंडविच पैनल और स्टील के दरवाजे बनाए जाएंगे। जेएसडब्ल्यू समूह के मुताबिक