पीके बोर्ड गेम प्लेटफॉर्म

पीके बोर्ड गेम प्लेटफॉर्म

time:2021-10-25 21:19:04 बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए Views:4591

शरीर रचना से संबंधित खेल पीके बोर्ड गेम प्लेटफॉर्म betway जैकपॉट पिक 5,fun88 वीआईपी,lovebet 500 फ्री बेट,lovebet भारत में कानूनी है,lovebet टीएनटीएफ,३० से १ बैकारेट,बैकरेट बैंकर को कानून जीतना चाहिए,बैकारेट खेलने की रणनीति,पांच अर्थों में सर्वश्रेष्ठ,बीविन लाइव रूले एरफह्रुंगेन,कैसीनो फिल्म कास्ट,शतरंज जे. हौस्का,क्रिकेट चर्चा लाइव,क्रिकेटर ओ थॉमस,यूरोपीय कप फुटबॉल बेबी,फुटबॉल नकद खाता खोलना,जुआ बेकरेट नहीं जीत सकता,खुश किसान संगीत पत्र,क्रिकेट के बल्ले में,जैकपॉट कैसीनो,बड़ा गेमिंग रणनीति मंच,लाइव गेम डाउनलोड,लॉटरी मील,एम खेल पैकेज,ऑनलाइन कैसीनो डेमो,ऑनलाइन गेम वेबसाइट,ऑनलाइन स्लॉट पा,पोकर 4 अक्षर के शब्द,पोकर यूट्यूब 2021,रूले प्रश्नोत्तरी अमेज़न,रम्मी गुरु,एस स्पोर्ट्स कार,स्लॉट बचे हैं,खेल से सम्बंधित शब्द,तीन पत्ती लाइव गेम,लॉटरी शर्ली जैक्सन,आभासी क्रिकेट मशीन,वाइल्डज़ xl,QQ स्कोर लॉटरी,करुणा तोर मया जिंदाबाद,क्ष् जससक जोकर स्टेटस,जैकपॉट गेम,पोकर खरगोश,बरसाना धाम,रियल मनी बैकरेट,स्टेटस भगवान के, .बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए

ज्यादातर रिटायर हो चुके लोग सिर्फ फिक्‍स्‍ड इनकम ऑप्‍शन में निवेश करते हैं. इसका मतलब है कि कम ब्‍याज दरें उनके लिए फायदेमंद नहीं हैं.
31 मार्च को वित्त मंत्रालय ने छोटी बचत स्कीमों के लिए तिमाही ब्याज दरों का एलान किया. कुछ घंटे बाद ही उसने दरों को बहाल कर दिया. सरकार ने पहले ब्याज दरों में बड़ी कटौती की थी. उदाहरण के लिए सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम (एससीएसएस) की दरें 7.4 फीसदी से घटाकर 6.5 फीसदी कर दी गई थीं. पीपीएफ के मामले में दरों का 7.1 फीसदी से घटाकर 6.5 फीसदी किया गया था.

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया. कुछ अर्थशास्त्रियों ने इस फैसले की आलोचना की. उनका कहना था कि ये दरें मार्केट से लिंक हैं. इन्‍हें गिल्‍ट रेट की तर्ज पर घटाना सही है. फिर ब्‍याज की दरें कितनी भी कम क्‍यों न हो जाएं.

सरकार को सुनिश्चित करना चाहिए कि सीनियर सिटीजन को ब्याज दर के मामले में स्पेशल डील मिले. कारण है कि इनके पास इनकम का कोई और जरिया नहीं होता है. अर्थव्यवस्था में ब्याज दरें घट रही हैं. पूंजी को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली स्कीमों के साथ ब्याज दरों को घटाने में बुराई नहीं है. हालांकि, एससीएसएस को इसमें अपवाद के तौर पर देखना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : यूलिप और म्यूचुअल फंड में इन 5 बड़े अंतरों को जान लें, होगा फायदा

एससीएसएस में बुजुर्ग पैसा लगाते हैं. इसका इस्तेमाल चक्रवृद्धि ब्‍याज दर जेनरेट करने के लिए नहीं होता है. न ही दौलतमंद बनने के लिए. अलबत्ता यह इनकम के स्रोत की तरह है. स्‍कीम में निवेश करने की न्यूनतम उम्र 60 साल है. इसमें अधिकतम 15 लाख रुपये लगाया जा सकता है. इसके अलावा इंटरेस्ट इनकम पूरी तरह टैक्सेबल है.

इसे भी पढ़ें : सिप टॉप-अप फैसिलिटी के बारे में यहां जानिए अपने हर सवाल का जवाब

मेरा मानना है कि सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम पर ब्‍याज दर बढ़नी चाहिए. साथ ही इसमें निवेश की लिमिट भी बढ़ाने की जरूरत है. इसके पीछे कई कारण हैं. जहां कम महंगाई और ब्‍याज दरों का इकनॉमिक ग्रोथ पर सकारात्मक असर होता है. वहीं, रिटायर हो चुके लोगों को इसका फायदा नहीं होता है. ये कमाई और उसे बढ़ाने के दौर से निकल चुके होते हैं. ज्यादातर रिटायर हो चुके लोग सिर्फ फिक्‍स्‍ड इनकम ऑप्‍शन में निवेश करते हैं. इसका मतलब है कि कम ब्‍याज दरें उनके लिए फायदेमंद नहीं हैं. सच तो यह है कि इससे उन्‍हें नुकसान होता है. कारण है कि व्‍यक्त‍िगत महंगाई की दर हमेशा औपचारिक महंगाई की दर से ज्‍यादा होती है.

यह विडंबना है कि मार्केट-लिंकिंग की व्यवस्था की बात करने वाले उस वर्ग के लोग हैं जो वास्तव में कभी ऐसे डिपॉजिट पर निर्भर नहीं रहे हैं. इसे अमल में लाने वाले लोग भी वे हैं जो गारंटीशुदा पेंशन पाते हैं. यह महंगाई के साथ बढ़ती रहती है.

(लेखक वैल्‍यू रिसर्च के सीईओ हैं.)

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

एससीएसएससीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीमबुजुर्गज्‍यादा ब्‍याजब्‍याज दरछोटी बचत स्‍कीमें

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival
Recent hit

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival

11 mins read
Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past
Investing

Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past

14 mins read

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) अंतरराष्ट्रीय बाजार में बहुमूल्य धातुओं की कीमतों में तेजी के बीच राष्ट्रीय राजधानी के सर्राफा बाजार में सोमवार को सोना 182 रुपये की मजबूती के साथ 47,023 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने यह जानकारी दी। इससे पिछले कारोबारी सत्र में सोना 46,841 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। हालांकि, चांदी की कीमत 178 रुपये की गिरावट के साथ 64,721 रुपये प्रति किलोग्राम रह गयी। पिछले कारोबारी सत्र में यह 64,899 रुपये प्रति किलो के भाव पर बंद हुई थी। सोमवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये का मूल्य 18लगातार अच्‍छा रिटर्न चाहते है? इस फंड में लगा सकते हैं पैसा

यूनिट लिंक्ड इंश्‍योरेंस प्‍लान यानी यूलिप और म्यूचुअल फंड कई मायनों में अलग होते हैं. यह और बात है कि कई लोग इन्‍हें एक जैसा प्रोडक्ट समझने की भूल कर बैठते हैं. आपको भी अगर ऐसी गलतफहमी है तो यहां हम इन दोनों के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतरों के बारे में बता रहे हैं.मुंबई, 25 अक्टूबर (भाषा) विदेशों में अपनी मुख्य प्रतिद्वंद्वी मुद्राओं की तुलना में डॉलर के मजबूत होने तथा कच्चेतेल की कीमतों में बढ़ोतरी के बीच अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में सोमवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 18 पैसे टूटकर 75.08 (अस्थायी) प्रति डॉलर पर बंद हुआ। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 74.98 रुपये पर कमजोर खुला तथा कारोबार के दौरान यह 74.97 से 75.10 रुपये के दायरे में रहा। अंत में पिछले कारोबारी सत्र के बंद भाव के मुकाबले यह 18 पैसे के नुकसान से 75.08 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। शुक्रवार को रुपया 74.90 रुपये प्रतिबॉयोलॉजिकल ई लिमिटेड का कोविड-19 का टीका नवंबर अंत तक आने की उम्मीद

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.लगातार अच्‍छा रिटर्न चाहते है? इस फंड में लगा सकते हैं पैसा

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
पोकर पूल मिशिगन रम्मी

नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने की कई कोशिश की जा रही है.

बैकरेट लाइव डीलर

अगर आप बड़ी तस्वीर के हिसाब से देखें तो पिछले साल की गई छंटनी के हिसाब से इस साल जॉब के मौके में 50 फ़ीसदी तक की वृद्धि दर्ज की गई है।

ऑनलाइन मकाऊ कैसीनो

कोलकाता, 25 अक्टूबर (भाषा) इंजीनियरिंग वस्तुओं का निर्यात सितंबर, 2021 में नौ अरब डॉलर को पार कर गया जबकि चीन, ब्रिटेन और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) जैसे शीर्ष 25 निर्यात गंतव्यों में से 22 में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की गयी।सितंबर महीने में कुल वस्तुओं के निर्यात में इंजीनियरिंग सामान की हिस्सेदारी 26.65 प्रतिशत रही। इंजीनियरिंग निर्यात संवर्धन परिषद (ईईपीसी) के चेयरमैन महेश देसाई ने कहा कि देश का इंजीनियरिंग निर्यात संचयी रूप से अप्रैल-सितंबर, 2021 में बढ़कर 52.3 अरब डॉलर हो गया जो पिछले साल इसी अवधि में 32.4 अरब डॉलर था। देसाई ने कहा, ‘‘सालाना आधार पर इसके 2021-22

करुणा भारत का समाचार

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) मजबूत हाजिर मांग के बीच सटोरियों ने ताजा सौदों की लिवाली की जिससे स्थानीय वायदा बाजार में सोमवार को सोने का भाव 228 रुपये बढ़कर 48,025 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में दिसंबर महीने की डिलिवरी के लिये सोने की कीमत 228 रुपये यानी 0.48 प्रतिशत बढ़कर 48,025 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। इसमें 11,327 लॉट के लिये कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करने से सोना वायदा कीमतों में तेजी आई। वैश्विक स्तर पर न्यूयार्क में सोने की कीमत 0.28 प्रतिशत की तेजी

आज का फुटबॉल मैच क्या है

अगर आप बड़ी तस्वीर के हिसाब से देखें तो पिछले साल की गई छंटनी के हिसाब से इस साल जॉब के मौके में 50 फ़ीसदी तक की वृद्धि दर्ज की गई है।

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी
क्रिकेट 5 वाक्य अंग्रेजी में

हैदराबाद, 26 अक्टूबर (भाषा) जैव प्रौद्योगिकी एवं जैव औषधि कंपनी बायोलॉजिकल ई. लिमिटेड (बीई) नवंबर के अंत तक अपना कोविड-19 का टीका ‘कॉर्बेवैक्स’ पेश कर सकती है। कंपनी 10 करोड़ खुराकों के साथ इस टीके को उतारने की तैयारी कर रही है। हैदराबाद की कंपनी बीई की प्रबंध निदेशक महिमा दातला ने यह जानकारी दी। उन्होंने अमेरिका के अंतरराष्ट्रीय विकास वित्त निगम (डीएफसी) के साथ एक वित्तपोषण समझौते पर हस्ताक्षर करने के मौके पर पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि विनिर्मित खुराक को इस समय नियामकीय परीक्षण के लिए हिमाचल प्रदेश के कसौली में स्थित केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला